योग के फायदे -Benefits Of Yog And Yogasan In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी योग के फायदे -Benefits Of Yog And Yogasan In Hindi आइये जानते है।

यह भी पढ़े – Pet kam karne ke yoga : पेट कम करने के लिए बाबा रामदेव के 5 आसान योग आसन

योग सही तरह से जीने का विज्ञानं है और इसलिए इसे हमे हमारे दैनिक जीवन मे अवश्य शामिल करना चाहिए क्योकि योग हमे मानसकि ,आध्यात्मिक तथा शारीरिक शांति प्रदान कराता है। योग मन और सरीर के बीज समानता लाने का काम करता है यह स्वस्थ जीवन जीने की कला और विज्ञान है। ‘योग’ शब्द संस्कृत मूल ‘युज’ से बना है, जिसका अर्थ है ‘जुड़ना’ या ‘जुएना’ या ‘एकजुट होना’। योग शास्त्रों के अनुसार बहुत सी बीमारियों का हल माना गया है। योग के फायदे -Benefits Of Yog And Yogasan In Hindi

यह भी पढ़े – हाइट बढ़ाने के लिए कौनसा योग करना चाहिए – Yoga For Grow Height In Hindi

हेलो फ्रैंड्स कैसे है आप सभी उम्मीद करती हूँ की अच्छे ही होंगे ,जैसा की आप सभी जानते है मैं मेरे पोस्ट के माध्यम से आपको बहुत से आयुर्वेदिक प्रोडक्ट्स और उनमे समृद्ध प्राकर्तिक अवयवों के बारे मे बताती हूँ तो वैसे ही आज के इस पोस्ट के अंतर्गत हम बात करने वाले है की हम प्राकर्तिक तौर तरीको यानि की जिन्हे स्वसन सम्बन्धी ,सर दर्द से सम्बंधित या अन्य कई बीमारियाँ ,जो की योग के माध्यम से दूर की जा सकती है उन्हें योग से कैसे ठीक कर सकते है और कोनसे योग किस बीमारी के इलाज मे सहायक है तो इसलिए आज के इस पोस्ट के अंतर्गत हम बात करने वाले योग के फायदे -Benefits Of Yog And Yogasan In Hindi तो आइये जानते है तथा साथ ही यह भी जानेगे की योग की हमारे जीवन मे क्या महत्वता रखता है।

यह भी पढ़े – Zandu Rhumayog Gold Tablets फायदे तथा उपयोग Zandu Rhumayog Gold Tablets in Hindi

योग क्या है -What Is Yoga

योग को समझने के लिए हमे इसकी गहरई मे जाना होगा ,योग एक आध्यात्मिक प्रक्रिया है जो शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने का काम (योग) करता है। हिन्दू धर्म,जैन पन्थ और बौद्ध पन्थ में ध्यान यानि की योग को स्वस्थ जीवन शैली के लिए बहुत अधिक महत्वता दी गई है। योग शब्द भारत से बौद्ध पन्थ के साथ चीन, जापान, तिब्बत, दक्षिण पूर्व एशिया और श्री लंका में भी फैल गया है और इस समय योग से पूरा विश्व परिचित है। आप सभी को यह तो मालूम ही होगा की 21 जून को विश्व योग दिवस के रूप में मनाया जाता है।

यह भी पढ़े – हाइट बढ़ाने के लिए बेस्ट एक्सरसाइज – Best Exercises To Increase Height In Hindi

‘योग’ शब्द ‘युज समाधौ’ आत्मनेपदी दिवादिगणीय धातु में ‘घं’ प्रत्यय लगाने से बनता है। गीता में श्रीकृष्ण ने एक स्थान पर कहा है ‘योगः कर्मसु कौशलम्‌’ ( कर्मों में कुशलता तथा निपुणता ही योग है।)

योग के मूल रूप से दो अर्थ माने गए हैं, पहला- जुड़ना और दूसरा-समाधि। ‘योग’ शब्द का अर्थ हुआ- समाधि अर्थात् शांत मन और संपूर्ण शरीर का योग मे ध्यानमगन हो जाना और सभी चिंताओं से मुक्त हो जाना होता है जब तक हम स्वयं से नहीं जुड़ पाते, तब तक समाधि के स्तर को प्राप्त करना मुश्किल होता है। यह सिर्फ व्यायाम ही नहीं है बल्कि ‘योग’ संपूर्ण शरीर मस्तिष्क,और आत्मा का एक-दूसरे से मिलन होता है। जीवन को सही प्रकार से जीने का योग एक मार्ग है तथा बहुत से विद्वानों का मानना है की जीवात्मा और परमात्मा के मिल जाने को योग कहते हैं।योग के फायदे

  • भीड़ मे खोने से अच्छा है एकांत मे खो जाये ~ओशो
  • यदि शरीर और मन स्वस्थ नहीं है तो जीवन भार बन जाता है तथा योग करने से शरीर और मन स्वस्थ रहता है और योग सभी बीमारियों का इलाज भी है ,योग करे और निरोग रहे -बाबा रामदेव
    *जीवन के हर क्षेत्र मे एक नए स्टार के संतुलन और क्षमता को प्राप्त करना योग है -सद्गुरु

योगासन के फायदे – Yoga Benefits

  • योग शक्ति, संतुलन और शारीरिक लचीलेपन में सुधार करता है।
  • योग पीठ दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।
  • योग गठिया के लक्षणों को कम कर सकता है।
  • योग हृदय स्वास्थ्य को लाभ पहुंचाता है।
  • योग आपको आराम देता है, जिससे आपको बेहतर नींद लेने में मदद मिलती है।
  • योग का मतलब अधिक ऊर्जा और उज्जवल ,बेहतर मूड हो सकता है।
  • योग आपको तनाव को कम करने में मदद करता है।
  • योग आपको एक सहायक समुदाय से जोड़ता है।योग के फायदे

यह भी पढ़े – चिया बीज के फायदे, उपयोग और नुकसान -Benefits Of Chia Seed ,Uses And Side Eefect In Hindi

योगासन के स्वास्थ्य लाभ -Health Benefits of Yoga

1 ) योग पीठ दर्द से राहत दिलाने मे सहायक –योग पीठ दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। पीठ के निचले हिस्से में दर्द वाले लोगों में दर्द को कम करने और पीठ दार्द में सुधार के लिए योग एक अच्छा उपाय है। शरीर में कहीं भी और कभी भी दर्द हो सकता है। खासकर,कमर मे वहीं, जब आप योग करते हैं, तो शुरुआत में इस दर्द को सहने की शारीरिक क्षमता बढ़ने लगती है। साथ ही नियमित अभ्यास के बाद यह दर्द कम होने लगता है।

2 ) आपके शारीरिक लचीलेपन में सुधार करता है –शरीर के बेहतर लचीलेपन के लिए सबसे अच्छा माध्यम योग ही है। जीवन को सकारात्मक तरीके से जीने और काम करने के लिए शरीर में ऊर्जा का बना रहना जरूरी है। इसमें योग आपकी मदद करता है। योग को करने से थकावट दूर होती है और शरीर नई ऊर्जा से भर जाता है। योग के नियमित अभ्यास से आपका शरीर बहुत अधिक फ्लेक्सिबल बन जाता है।

3 ) रक्त प्रवाह –रक्त प्रवाह यानि की शरीर मे प्रॉपर ब्लड सर्कुलेशन का होना ,जब शरीर में रक्त का संचार बेहतर होता है, तो सभी अंग बेहतर तरीके से काम करते हैं। ब्लड सर्कुलेशन के अनबैलेंस होते है शरीर मे बहुत सी बीमारियाँ जन्म ले लेती है, जैसे की – ह्रदय संबंधी रोग, खराब लिवर, किडनी मे समस्याएं इत्यादि बीमारी शरीर मे जन्म ले लेती है किन्तु इन सभी का इलाज है योग क्योकि योग करने से शरीर मे रक्त परिसंचरण सुचारु रूप से होगा और अगर प्रॉपर ब्लड सर्कुलेशन होगा तो शरीर मे ऐसी बीमारियाँ पैदा नहीं हो पाती है।

Related Post

4 ) योग से मांसपेशियों की ताकत बढ़ती है –मजबूत मांसपेशियां शारीरिक ताकत को बढाती है और यह तब संभव होगा जब आप नियमित योग का अभ्यास करेंगे। योग गठिया और पीठ दर्द जैसी बीमारी से दूर रखता है। योग करने से मांसपेशियों की गतिविधि में सुधार होता है। यह मजबूत होती हैं और इनमें लचीलापन आता है।

5 ) वजन प्रबंधन – आजकल जिसे देखो वो अपने वजन की वजह से बहुत अधिक परेशान है ,और इसका मुख्य कारण गलत दिनचर्या ,गलत खान -पान है। जैसा की आप सभी जानते है की गलत खान -पान की वजह से शरीर मे बहुत अलग -अलग बीमारियाँ पैदा हो जाती है ,गलत खान -पान से पाचन तंत्र और लिवर मे बीमारी उत्पन हो जाती है और इन सबसे बचने का उपाय एक योग ही है। अगर आप नियमित योग करते हैं, तो कब्ज और एसिडिटी जैसी समस्याएं दूर होती हैं और पाचन तंत्र बेहतर होता है और सबसे मुख्य बात फिर इससे वजन कम होने लगता है।

6 ) माइग्रेन –अगर आप माइग्रेन के सीकर है तो योग के माध्यम से आसानी से आप इस समस्या से निजात पा सकते है। योग मांसपेशियों में आए खिंचाव को कम करता है और सिर तक पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचती है, जिससे माइग्रेन में राहत मिलती है। आप माइग्रेन से रहत पाने के लिए कपाल-भांति,प्राणायाम ,अनुलोम -विलोम और शीर्षाशन कीजिये ये योग आपको माइग्रेन से बहुत जल्द राहत प्रदान करेंगे।

7 ) ब्रोंकाइटिस : मुंह, नाक और फेफड़ों को बीच के हवा मार्ग को श्वास नली कहते हैं और जब इसमें सूजन आ जाती है, तो सांस लेना मुश्किल हो जाता है और इस अवस्था को डॉक्टरों के हिसाब से ब्रोंकाइटिस कहा जाता है। योग इस सूजन को दूर कर सांस लेने में आपकी मदद करता है। योग के जरिए फेफड़ों से ऑक्सीजन की आपूर्ति पर्याप्त मात्रा में होती है। योग के माध्यम से फेफड़ों में नई ऊर्जा का संचार होता है और स्वसन सम्बन्धी बीमारियाँ दूर हो जाती है।

8 ) कब्ज -यह एक बहुत ही अजीब सी बीमारी है और आमतौर पर बहुत से लोगो से सुनने को मिलती है। कबज एक ऐसी बीमारी है जो शरीर मे अन्य बीमारियों को जन्म देती है क्योकि ज्यादातर बीमारी पेट से ही शुरू होती है। पाचन तंत्र में समस्या आने पर कब्ज होती है। इसे ठीक करने के लिए दवाइयों से बेहतर योग है। योग के जरिए कब्ज जड़ से खत्म हो सकती है। योग सबसे पहले पाचन तंत्र को ठीक करेगा, जिससे कब्ज अपने आप ठीक हो जाएगी और आप तरोताजा महसूस करेंगे।

9 ) जीवन में सकारात्मक विचार : योग करना हमेशा ऊर्जावान रहता है। योग करने से हमारे मस्तिस्क मे जीवन को लेकर सदैव सकारात्मक विचार रहते हैं। योग जीवन को और हमारे शरीर को हर दिन नई ऊर्जा प्रदान करता है और जोशीला बना देता है।

10 ) याददाश्त और मानसिक स्तिथि को स्वस्थ बनाये रखने मे सहायक –योग के जरिए मस्तिष्क की कार्यप्रणाली पर भी असर होता है। खासकर, युवाओ के लिए यह बेहद जरूरी है। परीक्षा के दौरान अपने मस्तिष्क को शांत रखना और बेहतर बनाना जरूरी है, ताकि वो जो भी पढ़ रहे हैं, उन्हें अच्छी तरह याद रहे। योग करने से एक उम्र के बाद भी अच्छी याददाश्त बानी रहती है और मानसिक स्तिथि स्वस्थ रहती है किन्तु यह सब संभव हो केवल योग के माध्यम से ही हो सकता है।

11 ) भरपूर नींद-दिनभर काम करने के बाद रात को अच्छी नींद लेना जरूरी है। इससे शरीर को अगले दिन फिर से काम करने के लिए तैयार होने में मदद मिलती है। पर्याप्त नींद न लेने पर दिनभर बेचैनी, सिरदर्द, आंखों में जलन और तनाव रहता है। चेहरे पर भी रोनक नजर नहीं आती। वहीं, अगर आप नियमित योग करते हैं, तो मन शांत होता है और तनाव से छुटकारा मिलता है, जिससे रात को अच्छी नींद सोने में मदद मिलती है।

12 ) कोलेस्ट्रॉल कम करने मे सहायक –योग के माध्यम से शरीर के बढे हुए कोलेस्ट्रॉल को भी कम किया जा सकता है क्योकि योग करने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन बेहतर होता हैऔर इससे नसों में रक्त का थक्के नहीं बन पाते और अतिरिक्त चर्बी भी साफ हो जाती है। यही कारण है कि कोलेस्ट्रॉल को नियंत्रित किया जा सकता है।

13 ) ह्रदय को स्वस्थ रखने मे सहायक –ह्रदय हमारे शरीर का नाजुक हिस्सा है। गलत खानपान, असंतुलित दिनचर्या का सीधा असर आपके ह्रदय पर होता है और इससे ह्रदय से जुड़ी कई बीमारियां पैदा हो जाती हैं। इन सबसे बचने का बेहतरीन उपाय योग है। नियमित योग व स्वस्थ खानपान से ह्रदय मजबूत रहता है और स्वस्थ रहता है।

14 ) अर्थराइटिस : अर्थराइटिस यानी गठिया होने पर जोड़ों में सूजन और दर्द शुरू हो जाती है। इस अवस्था में रोजमर्रा के काम करना मुश्किल हो जाता है। ऐसे में योग करना आपके लिए फायदेमंद हो सकता है। योग करने से जोड़ों में आई सूजन और दर्द कम होने लगता है और धीरे-धीरे आपके अंग काम करने लगते हैं किन्तु इस तरह के कोई भी योग या तो योग ट्रेनर या फिर डॉक्टर की सलाह से करे।

15 ) एकाग्रता : जैसा की मैंने आपको इस पोस्ट के माध्यम से योग के बारे मे बताया की योग एक समाधि है और नियमित रूप से योग करते रहने से आप इतने सक्षम हो जायेंगे कि अपने लक्ष्य को हासिल करने के लिए एकाग्रचित होकर काम कर सकते ।योग एकाग्रता और अपने लक्ष्य को सफलता पूर्वक पाने का एक मूल मंत्र है और योग से सदैव हमारी काम के प्रति एकाग्रता बनी रहती है।

विशेष नोट –यह योग करने वाला व्यक्ति ही बेहतर तरीके से समझ सकता है कि मानव जीवन में योग किसी चमत्कार से कम नहीं है किन्तु एक दूसरे के कहने पर या कहीं पढ़कर किसी भी प्रकार की उल्टी-सीधी योग ना करे इससे आपको शारीरिक परेशानी हो सकती है। आपको योग से बेहतर फायदा तब ही मिल सकता है जब आप शुरुआती समय मे योग को योगा ट्रेनर के अंडर मे रहकर करे।योग के फायदे

तो दोस्तों आज के इस पोस्ट के अंतर्गत मैंने आपको बताया की योग के फायदे -Benefits Of Yog And Yogasan In Hindi तथा इससे सम्बंधित पूर्णरूप से जानकारी दी है किन्तु फिर भी अगर आपको इसमें कुछ नहीं समझ आता है या इससे रिलेटेड कुछ और डिटेल्स जानना चाहते है तो आप मुझे comment बॉक्स मे जरूर से कमेंट करिये मैं आपके सवालो के जवाब दूंगी और मेरे साथ जुड़े रहने के लिए मेरे , आज के इस पोस्ट को अपनी family और friends के साथ जरूर शेयर कीजिये, और उम्मीद करुँगी की आप मेरा पोस्ट जरूर पढ़ेंगे ।योग के फायदे

admin

Recent Posts

हिमालया ईवकेयर कैप्सूल के फायदे तथा उपयोग -Himalaya Evecare Capsule Uses In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी हिमालया ईवकेयर कैप्सूल के फायदे तथा उपयोग -Himalaya…

19 hours ago

हिमालया एंटी हेयर फॉल ऑयल के फायदे तथा उपयोग -Himalaya Anti Hair Fall Oil Uses In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी हिमालया एंटी हेयर फॉल ऑयल के फायदे तथा…

2 days ago

हिमालया हिओरा-गा जेल के फायदे तथा उपयोग -Himalaya Hiora-Ga Gel Uses In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी हिमालया हिओरा-गा जेल के फायदे तथा उपयोग -Himalaya…

4 days ago

हिमालया सेंसिटिव टूथपेस्ट के फायदे तथा उपयोग -Himalaya Sensitive Toothpaste Uses In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी हिमालया सेंसिटिव टूथपेस्ट के फायदे तथा उपयोग -Himalaya…

7 days ago

हिमालया पाइलेक्स टैबलेट के फायदे तथा उपयोग -Himalaya Pilex Tablet Uses In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी हिमालया पाइलेक्स टैबलेट के फायदे तथा उपयोग -Himalaya…

1 week ago

हिमालया वी जेल के फायदे तथा उपयोग -Himalaya v gel Uses In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी हिमालया वी जेल के फायदे तथा उपयोग -Himalaya…

1 week ago

This website uses cookies.