Categories: Aayurvedic Nuskhe

Dabur Sitopaladi Churna फायदे तथा उपयोग – Dabur Sitopaladi Churna in Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo।in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी Dabur Sitopaladi Churna फायदे तथा उपयोग – Dabur Sitopaladi Churna in Hindi आइये जानते है।

यह भी पढ़े –Dabur Laxirid Tablets फायदे तथा उपयोग – Dabur Laxirid Tablets in Hindi

हेलो फ्रैंड्स आज के इस पोस्ट के अंतर्गत हम बात करेंगे Dabur Sitopaladi Churna से सम्बंधित की यह आयुर्वेदिक दवा: डाबर सीतोपालादि चूर्ण जुकाम और खांसी के लिए किस प्रकार से फायदेमन्द है। डाबर सीतोपालादि चूर्ण क्या सिर्फ जुकाम और खांसी के लिए ही बना है या फिर यह अन्य बीमारियों के इलाज मे भी सहायक है तथा इसके क्या फायदे है ,इसे आप उपयोग कैसे करे और इसे मुख्यतः किन -किन औसधियो को शामिल करके यह बनाया गया है इसके बारे मे आज हम इस पोस्ट मे डिटेल मे बात करेंगे तो आइये जानते है।

यह भी पढ़े –Dabur Madhu Rakshak फायदे तथा उपयोग – Dabur Madhu Rakshak in Hindi

डाबर सीतोपलदी चूर्ण क्या है -What is Dabur Sitopaladi Churna

डाबर सीतोपालादि चूर्ण आयुर्वेदिक और हर्बल औषधि है। यह पाउडर के रूप (चूर्ण) में उपलब्ध है। सीतोपालादि चूर्ण का निर्माण डाबर द्वारा किया गया है। सितोपलादि चूर्ण सर्दी और खांसी के लिए आयुर्वेदिक औषधि है। यह पिप्पली जैसे औषधीय पौधों से बनाया गया है। यह एक कफ निवारक औसधि है। यह चूर्ण शरीर में आराम से अवशोषित हो जाता है और पोषण और ऊर्जा प्रदान करता है। श्वसन तंत्र, पाचन तंत्र और प्रतिरक्षा प्रणाली (इम्म्युंटी सिस्टम ) से संबंधित विभिन्न प्रकार की बीमारी में फायदेमंद सीतोपालादि चूर्ण और इसलिए इसे एक प्राचीन आयुर्वेदिक दवा माना गया है। मुख्यतः यह श्वसन रोगों में फायदेमंद है।

यह भी पढ़े –Dabur Stondab Syrup फायदे तथा उपयोग – Dabur Stondab Syrup in Hindi

डाबर सीतोपालादि चूर्ण का चिकित्सा उपयोग -Medical Uses of Dabur Sitopaladi Churna

डाबर सीतोपालादि चूर्ण मे एंटीट्यूसिव (एजेंट एक खांसी को कम करता है), ब्रोंकोडाईलेटर (ब्रोन्ची को चौड़ा करने वाली दवा), और एंटी-इंफ्लेमेटरी (एजेंट गले के दर्द को कम करता है)। डाबर सीतोपालादि चूर्ण को मुख्यतः किन -किन बीमारियों के लिए इंडिकेशन्स (संकेत ) किया जाता है आइये जानते है –

  • खांसी
  • यक्ष्मा (क्षय रोग )
  • क्रोनिक ब्रोंकाइटिस
  • सूखा रोग ( सुखी खासी )
  • दुर्बलता (शारीरिक कमजोरी )
  • पेट की गैस
  • जीर्ण जठरशोथ
  • अल्सर
  • पेट में जलन
  • पेप्टिक छाला ( पेप्टिक अल्सर एक तरह का घाव होता है। यह पेट के भीतरी परत को संक्रमित करते है )
  • मुँह में छाला
  • आंत में सूजन
  • भूख में कमी

यह भी पढ़े –Dabur Badam Oil के फायदे तथा उपयोग -Dabur Badam Oil in Hindi

सितोपलादि चूर्ण के उपयोग और लाभ -Uses and Benefits of Sitopaladi churna

सितोपलादि चूर्ण के स्वास्थ्य लाभ और औषधीय उपयोग कुछ निम्न है –

1 ) खांसी ( Cough ) –सीतोपालादि चूर्ण में मौजूद तत्व एंटीट्यूसिव और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं। बहुत सी ऐसी बीमारियाँ है जीने यह अकेला ही ठीक करने मे काफी है। जैसा की आप सभी जानते ही होंगे की खांसी के कई कारण हो सकते हैं,और आयुर्वेद के अनुसार भी देखा जाये तो यह चूर्ण हर प्रकार की सर्दी ,खासी और जुकाम को ठीक करने मे सहायक है तथा गर्भावस्था के दौरान खांसी में भी यह फायदेमंद है।

2 ) गले में खराश ( Sore Throat ) -गले में खराश की समस्या के लिए अन्य और भी आयर्वेदिक दवाये उपलब्ध है जैसे की गंडक रसायण, यशद भस्म और प्रवाल पिष्टी तो इसी प्रकार से सितोपलादि चूर्ण भी गले की खराश में लाभकारी है। इसमें पाए जाने वाले माइक्रोबियल और विरोधी गुण स्ट्रेप्टोकोकल संक्रमण के खिलाफ एक शक्तिशाली उपाय है।Dabur Badam Oil के फायदे

3 ) टौंसिल या गले की सूजन (Tonsillitis ) -टॉन्सिल या सूजन वाले टॉन्सिल की सूजन में सीतोपालादि चूर्ण काफी हद तक फायदेमंद दवा है। यह चूर्ण गले में खराश, सूजन, निगलने में कठिनाई जैसे लक्षणों को कम करता है। यह चूर्ण टॉन्सिलिटिस पैदा करने वाले वायरल और जीवाणु संक्रमण के खिलाफ भी काम करता है। यदि आप मे से भी किसी को बार-बार टौंसिल होता है तो इस चूर्ण का उपयोग करे किन्तु एक बार चिकत्सक से अवश्य परामर्श करे।

4 ) दमा ( Asthma ) –सीतापलादि चूर्ण अस्थमा के लिए एक शक्तिशाली औषधि नहीं है, लेकिन सूजन, वायुमार्ग (श्वासनाल )की सूजन और श्लेष्मा को कम करने में यह सहायक है। यह अस्थमा को कम करने मे अच्छी तरह से काम करता है।

Related Post

5 ) माइग्रेन (Migraine ) -माइग्रेन एक सामान्य स्वास्थ्य स्थिति है,यानि की माइग्रेन एक प्रकार का सिरदर्द है। माइग्रेन में सितोपलादि चूर्ण का सेवन दर्द को कम करने में मदद कर सकता है। इसके अलावा स्वस्थ आहार और पर्याप्त नींद से माइग्रेन के लक्षणों को कम किया जा सकता है।

यह भी पढ़े –Dabur Camne Vid के फायदे तथा उपयोग -Dabur Camne Vid in Hindi

सितोपलादि चूर्ण की सामग्री -Ingredients of Sitopaladi Churna

सितोपलादि चूर्ण श्वसन विकारों के लिए व्यापक रूप से आयुर्वेदिक हर्बल उपचार है। इसमें निम्नलिखित तत्व शामिल हैं –

  • मिश्री (चीनी)
  • वंशलोचन (बांस मन्ना)
  • ट्वक (दालचीनी)
  • इलायची (हरी इलायची)
  • पाइपर लौंगम – लंबी काली मिर्च (पिप्पली)

1 ) पिप्पली –पिप्पली में फेफड़ों को detoxify करने की क्षमता होती है और यह सर्दी तथा खासी के उपचार में सहायक है। पिप्पली आंत की परत को साफ करने में भी मदद करता है जो अपच का इलाज करने में मदद करता है।

2 ) इलायची (हरी इलायची) –इलायची कफ दोष को ख़त्म करने में सहायक है और यह एक खांसी और दमा के उपचार में प्रभावी है।

3 ) ट्वक (दालचीनी) –दालचीनी एक expectorant ( कफ को खत्म)करने के रूप में कार्य करता है (यह खांसी को कम करता है) इलसिए यह खांसी के इलाज में मदद करता है।

डाबर सितोपलादि चूर्ण खुराक -Dabur Sitopaladi Churna Dosage

  • डाबर सितोपलादि चूर्ण को शहद के साथ दिन में दो बार या चिकित्सक के निर्देशानुसार लेना चाहिए।
  • डाबर सितोपलादि चूर्ण100 % प्राकर्तिक और शुद्ध है।
  • डाबर सितोपलादि चूर्ण के कोई दुष्प्रभाव नहीं बताए गए हैं किन्तु किसी भी तरह की कोई भी आयुर्वेदिक दवा को लेने से पहले अपने चिकत्सक से अवश्य सलाह ले।

डाबर सीतोपालादि चूर्ण के बारे में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न -Frequently asked Questions about Dabur Sitopaladi churna

1 ) सितोपलादि चूर्ण क्या है?
सितोपलादि चूर्ण एक आयुर्वेदिक हर्बल पाउडर है जिसका उपयोग श्वसन रोगों जैसे कि खांसी, अस्थमा और अन्य बीमारियों जैसे- बुखार, भूख न लगना, अपच, गले में खराश, गले में जलन या एलर्जी के लिए किया जाता है।

2 ) क्या सितोपलादि बच्चों के लिए सुरक्षित है?
हां, सितोपलादि चूर्ण का उपयोग बच्चे की श्वसन समस्याओं जैसे कि खांसी, और सांस लेने में तकलीफ के लिए किया जा सकता है। इसके अलावा डॉक्टर के माध्यम से सलाह ले फिर ही इसका उपयोग करना बेहतर होगा।

3 ) क्या सूखी खांसी के लिए सितोपलादि अच्छा है?
सूखी खाँसीऔर कफ के लिए सितोपलादि को एक अच्छी दवा माना गया है।

4 ) क्या हम गर्भावस्था में सितोपलादि चूर्ण ले सकते हैं?
हाँ, सिटोपालाडी चूर्ण गर्भावस्था में सुरक्षित है। भारत में, गर्भावस्था में खांसी के इलाज के लिए इसका उपयोग अक्सर किया जाता है।हर महिला की स्थिति अलग होती है, इसलिए डॉक्टर से पूछें सितोपलादि चूर्ण को लेने से पहले।

5 ) सितोपलादि चूर्ण दुष्प्रभाव क्या हैं?
सितोपलादि सुरक्षित दवा है। इसके उपयोग से कोई दुष्प्रभाव नहीं होता है।

6 ) क्या सितोपलादि चूर्ण का उपयोग स्तनपान की अवधि के दौरान सुरक्षित है?
इसके बारे में डॉक्टर से ज़रूर पूछें और उनकी सलाह के अनुसार ही निर्णय लें।

विशेष नोट –सितोपलादि चूर्ण तथा इस वेबसाइट पर बताये गए किसी भी प्रोडक्ट्स का इस्तमाल अपने डॉक्टर की सलाह के बाद ही करे

तो दोस्तों आज के इस पोस्ट के अंतर्गत मैंने आपको बताया की Dabur Sitopaladi Churna फायदे तथा उपयोग – Dabur Sitopaladi Churna in Hindi तथा इससे सम्बंधित पूर्णरूप से जानकारी दी है किन्तु फिर भी अगर आपको इसमें कुछ नहीं समझ आता है या इससे रिलेटेड कुछ और डिटेल्स जानना चाहते है तो आप मुझे comment बॉक्स मे जरूर से कमेंट करिये मैं आपके सवालो के जवाब दूंगी और मेरे साथ जुड़े रहने के लिए मेरे , आज के इस पोस्ट को अपनी family और friends के साथ जरूर शेयर कीजिये, और उम्मीद करुँगी की आप मेरा पोस्ट जरूर पढ़ेंगे ।

Sonal Sharma

सोनल Hindiinfo.in की एक अच्छी लेखिका है जिन्हे सेहत , मनोरंजन और घरेलु नुस्खों के बारे में लिखना और पढ़ना पसंद है ।

Recent Posts

Himalaya AyurSlim Capsules Review In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी Himalaya AyurSlim Capsules Review In Hindi आइये जानते…

1 day ago

Himalaya Tulasi Tablet Review In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी Himalaya Tulasi Tablet Review In Hindi आइये जानते…

2 days ago

Himalaya Foot Care Cream Review In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी Himalaya Foot Care Cream Review In Hindi आइये…

4 days ago

Himalaya Ophthacare Eye Drops Review In Hindi

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी Himalaya Ophthacare Eye Drops Review In Hindi आइये…

7 days ago

माइग्रेन के लिए आयुर्वेदिक दवा – Aayurvedic Medicine For Migraine

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी माइग्रेन के लिए आयुर्वेदिक दवा - Aayurvedic Medicine…

1 week ago

Benefits Of Tulsi In Hindi -तुलसी के फायदे तथा उपयोग

नमस्कार दोस्तों, Hindiinfo.in के इस के पोस्ट में आज मैं आपको बताऊगी Benefits Of Tulsi In Hindi -तुलसी के फायदे…

2 weeks ago

This website uses cookies.