Patanjali Sanjivani Vati के क्या फायदे है -Patanjali Sanjivani Vati Review in Hindi

नमस्कार दोस्तों, hindiinfo.in के इस पोस्ट मे आज मैं आपको बताऊगी Patanjali Sanjivani Vati के क्या फायदे है -Patanjali Sanjivani Vati Review in Hindi आइये जानते है |

यह भी पढ़े – Best Coconut Oil For Hair -बालो के लिए सबसे अच्छा नारियल का तेल

हेलो फ्रैंड्स आज के पोस्ट के अंतर्गत हम करेंगे पतंजलि दिव्य संजीवनी बूटी से सम्बंधित की यह बूटी हमारे अच्छे स्वास्थ्य के लिए कैसे फायदेमंद है और इसे आप कैसे उपयोग कर सकते है | पतंजलि के सभी आयुर्वेदिक प्रोडक्ट पूर्णतः प्राकर्तिक औसधियो से निर्मित है इसलिए यह हमारे शरीर के लिए स्वास्थ्यवर्धक साबित हुई है तो आइये जानते है Patanjali Sanjivani Vati के फायदे –

यह भी पढ़े –Benefits Of Black Pepper -काली मिर्च के क्या फायदे है

Patanjali Sanjivani Vati –

दिव्या संजीवनी वटी यह प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत करने में मदद करती है | पतंजलि संजीवनी वटी टैबलेट बुखार, खांसी, कब्ज, दमा, कैंसर, नाक की समस्याओं, , उच्च रक्तचाप, भूख, वायरल हेपेटाइटिस और अन्य स्थितियों के उपचार के लिए मुख्य आयुर्वेदिक दवा है | संजीवनी वटी का उपयोग विभिन्न विभिन्न बीमारियों में किया जाता है जैसे कि आम सर्दी, खांसी अपच, पेट में दर्द, संक्रमण, आदि इसके वात, और कफ इत्यादि बीमारी मे इसका उपयोग किया जाता है | संजीवनी वटी में त्रिफला सात अन्य जड़ी-बूटियों के साथ मौजूद है, जिनमें वात और पित्त शांत करने वाले गुण हैं। त्रिफला, और अदरक पाचन तंत्र के लिए प्रसिद्ध जड़ी बूटी है। ये जड़ी-बूटियाँ शरीर के विषाक्त पदार्थों को निकालने में मदद करती हैं।

यह भी पढ़े – Patanjali Divya Medha Vati Benefits And Review in Hindi – दिव्य मेधा वटी के क्या फायदे है

यह रक्त परिसंचरण में सुधार करता है और संजीवनी वटी एक एनर्जी बूस्टर के रूप में काम करती है | संजीवनी वटी में कोई कृत्रिम तत्व नहीं मिलाया गया है तो आइये जानते है इसके क्या -क्या फायदे है –

Patanjali Sanjivani Vati Benefits – संजीवनी वटी के निम्न फायदे

संजीवनी वटी प्राकृतिक रूप से कई स्वास्थ्य समस्याओं के उपचार और रोकथाम के लिए जानी जाती है तो आइये जानते है इसके निम्न लाभ

Cold & Flu –सर्दी और संक्रमण की समस्या कम करने मे सहायक

सर्दियों मे अधिक तेज़ सर्दी ,खांसी तथा फ्लू से बहुत से लोग जकड़े जाते है ,इसमें अधिकतर नाक बहने, गले में खराश, बुखार, और सिरदर्द से परेशान होना पड़ता है | जिसका उपचार संजीवनी वटी के नियमित सेवन से किया जा सकता है क्योंकि यह शरीर में किसी भी संक्रमण से लड़ने के लिए प्रतिरक्षा प्रणाली को बढ़ाता है।

Acid reflux –एसिड रिफ्लक्स

पेट का एसिड शरीर को तोड़ता है, जिससे जलन और सूजन होती है, जो दर्दनाक हो सकती है। हालांकि, संजीवनी वटी में एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-माइक्रोबियल गुण होते हैं जो शरीर में पाचन के स्तर में सुधार कर सकते हैं|

Diabetes – मधुमेह रोग के लक्षणों को कम करने मे सहायक

संजीवनी वटी में टीनोस्पोरा कोर्डिफ़ोलिया होता है जो रक्त शर्करा को कम करता है और शरीर में इंसुलिन के स्तर को प्राकृतिक रूप से कम करने के लिए बेहतर बनाता है इसलिए यह मधुमेह रोग को ठीक करने मे सहायक है |

Anti-Inflammation – एंटी-इंफ्लेमेशन

आप संजीवनी वटी के सेवन से शरीर में होने वाली सूजन को कम कर सकते हैं क्योंकि इसमें एक प्रमुख घटक के रूप में पाइपर लोंगम होता है जो शरीर मे आने वाली किसी भी प्रकार के सूजन को कम करने मे सहायता करता है

Liver ­- लिवर को ठीक रखने मे सहायक

संजीवनी वटी में प्राकृतिक कसैले तत्व होते हैं जिन्हें टर्मिनलिया चेबुला के रूप में जाना जाता है जो फैटी लीवर और लीवर के सिरोसिस से राहत दिलाने में मदद करता है।

Nausea or Dizziness –चक्कर आना

  • बहुत से लोगो को शरीर की कमजोरी की वजह से चक्कर आने लगते है तो आप संजीवनी वटी का सेवन करके चक्कर आने की इस समस्या को कम कर सकते हैं क्योंकि इसमें Zingiber Officinale होता है जो स्वाभाविक रूप से इस बीमारी से राहत देने के लिए जाना जाता है |
  • यह बुखार में राहत देता है तथा यह अजीर्ण स्थिति का इलाज में मदद करता है।
  • यह टाइफाइड बुखार के लिए एक बहुत प्रभावी उपाय है।
  • संजीवनी वटी वात और कफ संबंधी विकारों में उपयोगी है। यह शरीर को हानिकारक रसायनों, और विषाक्त पदार्थों से छुटकारा पाने में मदद करता है।

Patanjali Sanjivani Vati Ingredients –

  • Via Vidang – विअ विडंग
  • Sounth -सौंठ
  • Pippal -पीपल
  • Harad -हरड़
  • Baheda -बहेड़ा
  • Amla -अमला
  • Vach -वाच
  • Giloy -गिलोय
  • Suddh Bhilava -सुद्ध भिलावा
  • Suddh Vatsnav -सुद्ध वैस्नव
  • Cow Urin – गौ मूत्र

Dosage of Sanjivani Vati –

  • संजीवनी वटी का यदि आप उपयोग कर रहे है तो मैं आप सभी से कहना चाहूँगी की इसमें साइड इफ़ेक्ट जैसी कोई समस्या नहीं है किन्तु फिर भी आप इसे लेने से पहले एक बार चित्सक से परामर्श अवश्य करे |
  • सुबह 1 गोली गुनगुने पानी या अदरक के रस के साथ ले |
  • अच्छे रिजल्ट के लिए 3-4 सप्ताह तक लगातार उपयोग करे |
  • संजीवनी वटी को आप ऑनलाइन और आस-पास के बाजार मे किसी भी पतंजलि स्टोर से खरीद सकते है |
  • संजीवनी वटी 40 ग्राम आपको MRP: Rs 75 मे मिल जाएगी |
  • विशेष नोट -संजीवनी वटी का तथा इस वेबसाइट पर बताये गए किसी भी प्रोडक्ट्स का इस्तमाल अपने डॉक्टर की सलाह के बाद ही करे |

संजीवनी वटी में दस औषधीय जड़ी-बूटियाँ शामिल हैं तथा इन जड़ी बूटियों को गोमूत्र की मदद से एक साथ मिलाया जाता है,संजीवनी वटी शास्त्रीय आयुर्वेदिक दवा है तो दोस्तों आज के इस पोस्ट के अंतर्गत मैंने आपको Patanjali Sanjivani Vati Benefits And Review in Hindi – संजीवनी वटी के क्या फायदे है, इससे सम्बंधित जानकारी दी है किन्तु फिर भी अगर आपको इसमें कुछ नहीं समझ आता है या इससे रिलेटेड कुछ और डिटेल्स जानना चाहते है तो आप मुझे comment बॉक्स मे जरूर से कमेंट करिये मैं आपके सवालो के जवाब दूंगी और मेरे साथ जुड़े रहने के लिए मेरे , आज के इस पोस्ट को अपनी family और friends के साथ जरूर शेयर कीजिये, और उम्मीद करुँगी की आप मेरा पोस्ट जरूर पढ़ेंगे |
धन्यवाद

Leave a Comment